राष्ट्रमंडल खेलों में भारत की बेटियों का बेहतरीन प्रदर्शन
Sports
Typography

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों के आखिरी दिन की शुरुआत में भारत को दोहरी खुशी मिली. बैडमिंटन के महिला एकल वर्ग में साइना नेहवाल ने गोल्ड मेडल जीत लिया है. फाइनल मुकाबले में उन्होंने अपनी ही देश की पीवी सिंधु को बेहद कड़े मुकाबले में 21-18 और 23-21 से हराकर जीत दर्ज की.

गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों के आखिरी दिन की शुरुआत में भारत को दोहरी खुशी मिली. बैडमिंटन के महिला एकल वर्ग में साइना नेहवाल ने गोल्ड मेडल जीत लिया है. फाइनल मुकाबले में उन्होंने अपनी ही देश की पीवी सिंधु को बेहद कड़े मुकाबले में 21-18 और 23-21 से हराकर जीत दर्ज की.

पहला गेम सिर्फ 22 मिनट तक चला तो दूसरा गेम खत्म होने में 34 मिनट लगे. इस दौरान दोनों ही खिलाड़ियों के बीच एक-एक पॉइंट के लिए जबरदस्त टक्कर देखने को मिली. कॉमनवेल्थ गेम्स में साइना नेहवाल का यह दूसरा गोल्ड मेडल है. ऐसा करने वाली वह भारत की पहली महिला शटलर हैं. इससे पहले उन्होंने दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स 2010 में गोल्ड मेडल जीता था.

भारत के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी रही कि यह पहला मौका है, जब बैडमिंटन के महिला एकल का गोल्ड और सिल्वर दोनों ही उसके खाते में आए.

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने साइना नेहवाल और पीवी सिंधु को उनकी जीत पर बधाई दी है.

राष्ट्रमंडल खेलों में महिला एकल में स्वर्ण जीतने वाली साइना नेहवाल की मां अपनी बेटी के प्रदर्शन से बहुत खुश हैं. उनका मानना है कि चोट से उबर कर साइना ने इस पदक को जीतने के लिए कड़ी मेहनत की थी. साइना की जीत पर उनकी नानी ने भी खुशी जताई है.

किदाम्बी श्रीकांत ने जीता सिल्वर मेडल

बैडमिंटन के पुरुष एकल फाइनल मुकाबले में किदाम्बी श्रीकांत ने सिल्वर मेडल जीता. गोल्ड मेडल के लिए हुए मुकाबले में उन्हें 3 बार के ओलिंपिक चैंपियन मलयेशिया के ली चोंग वेई से हार का सामना करना पड़ा.

मैच में पहला गेम श्रीकांत ने जीता, लेकिन दूसरे और तीसरे गेम में हारकर उन्हें गोल्ड मेडल जीतने का मौका गंवाना पड़ा. मैच का स्कोर 21-19, 14-21 और 14-21 से चोंग वेई के पक्ष में रहा.

भारत की बेटियों ने दिखाया दम

गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय एथलीटों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य सहित कुल 66 पदक देश के नाम किए. इसमें से महिला खिलाड़ियों ने अपने शानदार प्रदर्शन से भारतीय दल के प्रदर्शन को यादगार बना दिया.

प्रतियोगिता के पहले दिन जहां भारोत्तोलन में मीराबाई चानू ने भारत को स्वर्णिम शुरुआत दिलाई, तो वहीं अंतिम दिन साइना और सिंधु ने बैडमिंटन में स्वर्ण और रजत जीतने में सफलता पाई. भारोत्तोलन में 3 महिलाओं ने सबसे अधिक पदक जीतकर भारत के लिए स्वर्ण अपने नाम किया.

निशानेबाजी में 16 वर्षीय मनु भाकर ने स्वर्ण पर निशाना लगाकर अपना नाम इतिहास के पन्नों में लिखा दिया. निशानेबाजी में मिले 7 स्वर्ण पदकों में से 4 स्वर्ण पदक भारतीय महिला निशानेबाजों ने जीतने में सफलता पाई.

टेबल टेनिस में भारतीय महिला टीम ने पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीतने में सफलता पाई. मनिका बत्रा ने महिला एकल में स्वर्ण जीतकर प्रतियोगिता में अपना दूसरा स्वर्ण हासिल किया.

अनुभवी एमसी मैरीकॉम ने स्वर्ण जीतकर एक और उपलब्धि हासिल की. कुश्ती में विनेश फोगाट ने अपने सभी मुकाबले जीतकर स्वर्ण अपने नाम किया.